Mustafa Jane Rehmat Pe Lakhon Salam Naat Lyrics

अस्सलामु अलैकुम्, उम्मीद है के आप सभी खैरो आफियत से होंगे। आज हम आप को Mustafa Jane Rehmat Pe Lakhon Salam Lyrics बताने वाले हैं उम्मीद है आप इस पोस्ट को पढ़ कर दूसरों तक भी पहुॅचायेंगे।


Mustafa Jane Rehmat Pe Lakhon Salam Lyrics

HindiEnglish
मुस्त़फ़ा, जान-ए-रह़मत पे लाखों सलाम
शम्-ए-बज़्म-ए-हिदायत पे लाखों सलाम
mustafa, jaan-e-rahamat pe laakhon salaam
sham-e-bazm-e-hidaayat pe laakhon salaam
मेहर-ए-चर्ख़-ए-नुबुव्वत पे रोशन दुरूद
गुल-ए-बाग़-ए-रिसालत पे लाखों सलाम
mehar-e-charkh-e-nubuvvat pe roshan durood
gul-e-baag-e-risaalat pe laakhon salaam
शहर-ए-यार-ए-इरम, ताजदार-ए-ह़रम
नौ-बहार-ए-शफ़ाअ़त पे लाखों सलाम
shahar-e-yaar-e-iram, taajadaar-e-haram
no-bahaar-e-shafaat pe laakhon salaam
शब-ए-असरा के दूल्हा पे दाइम दुरूद
नौशा-ए-बज़्म-ए-जन्नत पे लाखों सलाम
shab-e-asara ke doolha pe daim durood
nausha-e-bazm-e-jannat pe laakhon salaam
हम ग़रीबों के आक़ा पे बे-ह़द दुरूद
हम फ़क़ीरों की सर्वत पे लाखों सलाम
ham gareebon ke aaqa pe be-had durood
ham faqeeron kee sarvat pe laakhon salaam
दूर-ओ-नज़दीक के सुनने वाले वो कान
कान-ए-ला’ल-ए-करामत पे लाखों सलाम
door-o-nazadeek ke sunane vaale vo kaan
kaan-e-la’la-e-karaamat pe laakhon salaam
जिस के माथे शफ़ाअ’त का सेहरा रहा
उस जबीन-ए-सआ’दत पे लाखों सलाम
jis ke maathe shafat ka sehara raha
us jabeen-e-saadat pe laakhon salaam
जिन के सज्दे को मेह़राब-ए-का’बा झुकी
उन भवों की लत़ाफ़त पे लाखों सलाम
jin ke sajde ko meharaab-e-ka’ba jhukee
un bhavon kee lataaafat pe laakhon salaam
जिस त़रफ़ उठ गई, दम में दम आ गया
उस निगाह-ए-इ़नायत पे लाखों सलाम
jis taraf uth gaee, dam mein dam aa gaya
us nigaah-e-inaayat pe laakhon salaam
नीची आंखों की शर्म-ओ-ह़या पर दुरूद
ऊँची बीनी की रिफ़्अ’त पे लाखों सलाम
neechee aankhon kee sharm-o-haya par durood
oonchee beenee kee rif’at pe laakhon salaam
पतली पतली गुल-ए-क़ुद्‌स की पत्तियाँ
उन लबों की नज़ाकत पे लाखों सलाम
patalee patalee gul-e-qud‌sa kee pattiyaan
un labon kee nazaakat pe laakhon salaam
वो दहन जिस की हर बात वह़ी-ए-ख़ुदा
चश्मा-ए इ़ल्म-ओ-हिकमत पे लाखों सलाम
vo dahan jis kee har baat vahaee-e-khuda
chashma-e ilm-o-hikamat pe laakhon salaam
वो ज़बाँ जिस को सब कुन की कुंजी कहें
उस की नाफ़िज़ ह़ुकूमत पे लाखों सलाम
vo zabaan jis ko sab kun kee kunjee kahen
us kee naafiz haukoomat pe laakhon salaam
जिस की तस्कीं से रोते हुए हँस पड़ें
उस तबस्सुम की अ़ादत पे लाखों सलाम
jis kee taskeen se rote hue hans paden
us tabassum kee aaadat pe laakhon salaam
हाथ जिस सम्त उठ्ठा ग़नी कर दिया
मौज-ए-बह़्‌र-ए-समाह़त पे लाखों सलाम
haath jis samt uththa ganee kar diya
mauj-e-bah‌ra-e-samaahat pe laakhon salaam
जिस को बार-ए-दो-अ़ालम की पर्वा नहीं
ऐसे बाज़ू की क़ुव्वत पे लाखों सलाम
jis ko baar-e-do-aaalam kee parva nahin
aise baazoo kee quvvat pe laakhon salaam
जिस सुहानी घड़ी चमका त़यबा का चाँद
उस दिल-अफ़रोज़ साअ’त पे लाखों सलाम
jis suhaanee ghadee chamaka tayaba ka chaand
us dil-afaroz sat pe laakhon salaam
किस को देखा ये मूसा से पूछे कोई
आंखों वालों की हिम्मत पे लाखों सलाम
kis ko dekha ye moosa se poochhe koee
aankhon vaalon kee himmat pe laakhon salaam
ग़ौस-ए-आ’ज़म इमामु-त्तुक़ा-वन्नुक़ा
जल्वा-ए-शान-ए-क़ुदरत पे लाखों सलाम
gaus-e-aa’zam imaamu-ttuqa-vannuqa
jalva-e-shaan-e-qudarat pe laakhon salaam
जिस की मिम्बर हुई गर्दन-ए-औलिया
उस क़दम की करामत पे लाखों सलाम
jis kee mimbar huee gardan-e-auliya
us qadam kee karaamat pe laakhon salaam
एक मेरा ही रह़मत में दा’वा नहीं
शाह की सारी उम्मत पे लाखों सलाम
ek mera hee rahamat mein da’va nahin
shaah kee saaree ummat pe laakhon salaam
काश ! मह़शर में जब उन की आमद हो और
भेजें सब उन की शौकत पे लाखों सलाम
kaash ! mahashar mein jab un kee aamad ho aur
bhejen sab un kee shaukat pe laakhon salaam
मुझ से ख़िदमत के क़ुदसी कहें हाँ रज़ा
मुस्त़फ़ा, जान-ए-रह़मत पे लाखों सलाम
mujh se khidamat ke qudasee kahen haan raza
mustafa, jaan-e-rahamat pe laakhon salaam
शायर:
इमाम अहमद रज़ा खान बरेलवी
डाल दी क़ल्ब में अज़मत-ए-मुस्तफ़ा
सय्यिदी आ’ला हज़रत पे लाखों सलाम
Mustafa Jane Rehmat Pe Lakhon Salam Lyrics

Read More: Ya Nabi Salam Alaika lyrics | या नबी सलाम अलैका | Easy

Leave a Comment